Drama Review Hindi | Kaisi Teri Khudgharzi | ARY Digital | Episode 30

Kaisi Teri Khudgharzi poster
Kaisi Teri Khudgharzi poster

कैसी तेरी खुदगर्जी

कैसी तेरी खुदगर्जी की कहानी एक बिजनेस टाइकून शहरयार के बेटे के इर्द-गिर्द घूमती है, जिसे महक से प्यार हो जाता है, जो एक मध्यमवर्गीय पृष्ठभूमि से है।

पाठ्यक्रम के दौरान कुछ अप्रिय घटनाएं होती हैं और महक शहरयार से नफरत करने लगती है; और चूंकि शहरयार का परिवार उसके रिश्ते को स्वीकार नहीं करता है, इसलिए कहानी और भी उलझ जाती है।

नाटक में उद्योग के कुछ सबसे बड़े नाम हैं।

लेखक: रादैन शाह

निर्देशक: अहमद भट्टिक

[स्रोत: एआरवाई डिजिटल टीवी]

You can read also my teaser review of Kaisi Teri Khudgarzi here: Teaser Review | Kaise Teri Khudgharzi | ARY Digital. And this post for Cast & Characters.

कैसी तेरी ख़ुदग़रज़ी क़िस्त 29 का ख़ुलासा

शेरो शमशीर और महक पर हमला करने आता है, लेकिन अपनी बंदूक़ नीचे फेंक देता है। ये आदमी बदल गया है और अब किसी को नहीं मार सकता।

कैसी तेरी ख़ुदग़रज़ी एपिसोड 30 लिखित अद्यतन और समीक्षा

तो, शेरो ने शमशीर को नवाब दिलावर के मन्सूबों के बारे में सब कुछ कहा। वो इस जोड़े से माफ़ी मांगता है और उनकी मदद करने, केस में गवाह बनने का वाअदा भी करता है। शमशीर चलो शेरो को उक़बी दरवाज़े से घर से बाहर करते हैं। फिर पुलिस बाद में आती है और घर की अच्छी तरह तलाशी लेती है लेकिन शेरो नहीं मिलता। मेरे अलफ़ाज़ याद रखना शेरो मारा जाएगा।

अगले दिन शमशीर नवाब दिलावर को ख़बरदार करने आता है।

महक को नुक़्सान पहुंचाने का सूचना भी नहीं वर्ना…

नवाब दिलावर पीछे नहीं हटे।

मैं इस वक़्त तक नहीं रुकूँगा जब तक मैं महक को तुम्हारी ज़िंदगी से नहीं हटा दूँग।।

~

अकरम निदा के रोने से परेशान है। वो रिहान और अंदलीब से बात करने जाता है। अंदलीब अपना शिकायती बॉक्स खौलती है और मुसलसल बातें करती है। अकरम को बख़ूबी अंदाज़ा होता है कि निदा के लिए ज़िंदगी कितनी मुश्किल है। अगरचे, मुझे तस्लीम करना चाहिए, निदा वाक़ई इतनी नरम नहीं है। वो अंदलीब के सासू मान स्पैशल पेंटरी के लिए काफ़ी मैच हैं। और फिर भी, वो इस लायक़ नहीं कि इस के साथ सुलूक किया जाये। किसे उसके हाथ में पैसे दिए, और वो अलफ़ाज़ जो उन्होंने निदा के लिए इस्तिमाल किए थे। अच्छा नहीं अहसन।

~

अहसन ने निदा के अलफ़ाज़ पर महक से माफ़ी मांगने की कोशिश की लेकिन महक ऐसी है आईए तो जा री। मुझसे बात मत करो। मंज़र पसंद आया। अहसन को इस शट अप काल की ज़रूरत थी।

~

और इस वक़्त फिरवा और फ़ारिह ने अहसन को देखा। वो अब अहसन को अपने फ़ायदे के लिए इस्तिमाल करना जानते हैं।

~

और फिर, मेरी पेशीन गोईआं हक़ीक़त बन जाती हैं।

जायज़ा

मुझे पसंद है कि किस तरह मुनाज़िर एक से दूसरे में मुंतक़िल होते हैं। मुझे लाइबा ख़ान की अदाकारी की तारीफ़ करनी चाहिए। इस का किरदार परेशानकुन हो सकता है लेकिन इस की अदाकारी सपाट आन है

~~~

Urdu Review

English Review

Until we meet again, check out my books on Amazon. You can subscribe for Kindle Unlimited for free for the first month, just saying 🙂

Shabana Mukhtar

Your comments and opinion matter. I try to moderate comments to filter out the trolls and weirdo. Your comments are welcome, but don't come here just to promote your content, and be nice, okay? Everyone is entitled to opinions. Alright, now go ahead, the comment section is your oyster. (I'm such a smarty pants)