Drama Review Hindi | Amanat | ARY Digital | Episode 21

एक छोटा सा पुनर्कथन

मेहर मलिक के घर से भागने की कोशिश कर रही है।

अमानत एपिसोड 21 लिखित अद्यतन और समीक्षा

 

पागल है और फिर सुपर दीवाना है, जो कि यह एपिसोड है।

 

याद रहे कि मेहर घर से निकल चुकी है और कोई ईनाम का अंदाज़ा लगाने के लिए वो पकड़ी जाती है। मलिक फुरकान बाहर निकलता है और उसे एक कमरे में बंद कर देता है। वह बीमार होने का नाटक करती है ताकि सईदा उसे अस्पताल ले जा सके और वह बच सके। पूरे अस्पताल में मेहर बेहोश है, लेकिन फिर फुरकान को फोन आता है कि कैसर की तबीयत ठीक नहीं है। जब वे घर आते हैं तो मेहर भाली चांगी होती है, वहीं खड़ी रहती है। वह वही है जिसने नोटिस किया कि कैसर सांस नहीं ले रहा है।

यह दूसरा ड्रामा है जिसमें गोहर रशीद के किरदार की मौत हुई है। लापाटा में उनका निधन हो गया और अब…

लंबी कहानी छोटी, सईदा कैसर की मौत पर अपना दिमाग खो देती है। साइमा जी ने काफ़ी ओवरएक्टिंग की है।

जरर केवल समरा की खातिर राहील से बात करने की कोशिश करता है लेकिन राहील नहीं सुनता। वह पूरी बातचीत इतनी खींच थी। हम हमेशा से जानते थे कि राहील अपने रुख से पीछे नहीं हटेगी।

जुनैद ने लाईबा को प्रपोज किया है और वह देश छोड़ने को तैयार है। उन्हें यूके में नौकरी मिल गई है। जब ज़ूनी को पता चलेगा तो उसकी क्या प्रतिक्रिया होगी?

मैं आपको अगले पोस्ट में देखूंगा।

शबाना मुख्तार