Tuk Bandi #2 (Hindi)

Note: Sometimes, I mix up lines from poetry and songs and it still makes perfect sense. Tuk Bandi is just for fun. Let’s see if the readers can identify the components 🙂

कत्थई आँखों वाली एक औरत

हर दम मुझ से बातें करती है

जब भी खाना खाने बैठूँ तो

हर दम मुझ से पूछा करती है

भिंडी दूं?

रोटी दूं?

और मैं बस यही कहता हूँ

कि

बस, पेट भर गया!!! 

Advertisements

Your comments and opinion matter. Please leave a message. Cheers!